Kyun Rishton Mein Katti Batti 10th June 2021 Written Episode Update: Kuldeep takes Shubhra’s side

क्यूं रिश्तों में कट्टी बत्ती १० जून २०२१ लिखित एपिसोड, TellyUpdates.com पर लिखित अपडेट

दृश्य 1
हर्ष कहते हैं कि प्यार दिल नहीं तोड़ता, लोग करते हैं। प्यार की कोई एक्सपायरी डेट नहीं होती, प्यार पर लोगों की गलतियों का दोष मत लगाओ। एक भी फूल गिर जाए तो पौधा नहीं टूटता। खुद से प्यार करो। अपनी ताकत को स्वीकार करें और खुद पर गर्व करें। आप जैसी शान से इस तरह की स्थिति को कोई नहीं संभाल सकता। तुम्हें अपने आप पर गर्व होना चाहिए। वक्त सारे जख्म भर देता है। शुभ्रा कहते हैं धन्यवाद। हर्ष कहते हैं कि हम अपने कमरों की यात्रा एक साथ कर सकते हैं।

कुलदीप आता है और कहता है कि मैं बात करना चाहता हूं। शुभ्रा कहती हैं प्लीज.. तुम एक और ड्रामा करोगी, समायरा देखेगी और एक और ड्रामा करेगी। मैं यह सब कर चुका हूं। कुलदीप ने अपनी साड़ी पकड़ी और कहा रुको, प्लीज। हर्ष इसे कुलदीप के हाथ से हटाता है और कहता है कि जब कोई महिला ना कहे तो इसे ना मान लें। शुभ्रा चला जाता है। कुलदीप कहते हैं कि तुम हमारे बीच तीसरे व्यक्ति क्यों हो? वह कहता है कि मैं तीसरा व्यक्ति नहीं हूं, जिसे आप लाए थे।

दृश्य २
नारायण कहते हैं अब बताओ कौन ज्यादा ड्रामा है? कुलदीप या समायरा? या चंद्रानी। उसने अपनी चूड़ियाँ समायरा को दे दीं। मधुरा कहती है कि मैं उससे बात करूंगी। नारायण कहते हैं कि हमें इसकी आवश्यकता नहीं है। शुभ्रा को मिलेगी इस शादी से छुटकारा, हो जाए ये शादी। उसे इस बोझ से उबरकर आगे बढ़ने की जरूरत है। समायरा का कहना है कि आज शुभरा के आगे बढ़ने का मुहूर्त है। वे स्तब्ध हैं। समायरा कहती है कि तुमने इतनी अच्छी बात कही। सुनने के लिए खेद है लेकिन आप इतनी अच्छी बातें कह रहे थे। आपकी बेटी की शादी हो चुकी है। कुछ सच कड़वे होते हैं लेकिन दवा अजीब होती है। शुभ्रा की शादी हो चुकी है। नारायण कहते हैं कि आप हमें यहां क्या नया बताने आए हैं? मधुरा कहती हैं कि उन्होंने हमारी बेटी की शादी तोड़ी। हम उसकी क्यों सुनेंगे। वह चल दी। समायरा उसका हाथ पकड़ती है और कहती है कि तुम शुभ्रा की आई हो ना? मुझे सिर्फ एक मां ही समझ सकती है क्योंकि वह अपनी बेटी को कभी परेशान नहीं देख सकती। आपकी बेटी समझदार और संस्कारी है।

नारायण कहते हैं कि यह कौन सा नया नाटक है? समायरा कहती है कि मैं कुछ भी होने का दिखावा नहीं करती। नारायण कहते हैं जल्दी करो। वह कहती है कि आपकी बेटी जानती है कि कुलदीप मेरा है। उसकी शादी हो चुकी है तो उसे जाने क्यों नहीं देती? बच्चों के नाम पर वह कुलदीप का टच क्यों रखना चाहती हैं? नारायण कहते हैं कि हमने कुलदीप को नहीं रोका। उसकी माँ ने किया। समायरा का कहना है कि एक ही रास्ता है कि कुलदीप आपके जीवन में कभी वापस नहीं आएगा। वह क्या कहता है? वह कहती है कि एआई को सहयोग करना होगा। केवल वह ही ऐसा कर सकती है। शुभ्रा तुमसे कभी नहीं कहेगी। शुभ्रा के दुख को समाप्त करने का एक ही उपाय है। नारायण कहते हैं कि कुलदीप के नाम से छुटकारा पाना है। समायरा बिल्कुल कहती है, तुम बहुत अच्छा बोलते हो। लेकिन आपकी बेटी बुढ़ापे में फंसी हुई है कि जीवन भर साथ रहे। महिलाएं इन दिनों चंद सेकेंड में तलाक दे देती हैं। नारायण कहते हैं कि आप क्या कहना चाहते हैं? समायरा तलाक के कागजात निकालती है और मधुरा को दे देती है। वह कहती है कि इस पर शुभ्रा के हस्ताक्षर करवाएं। समायरा कहती है कि आप चाहते हैं कि शुभ्रा कुलदीप को जल्द से जल्द छुटकारा दिलाए और मैं उसे अपना जल्द से जल्द बनाना चाहता हूं। यह तलाक का पेपर हमारी सभी समस्याओं का समाधान कर देगा। क्या कहते हो? वह कागज वहीं छोड़ देती है।

दृश्य 3
समायरा तैरने जाती है। फिरकी कुंड में गिर जाता है। समायरा कहती है कि तुम क्या कर रहे हो? वह कहती है कि मेरे पास ब्रेकिंग न्यूज है। कुलदीप इन दिनों शुभ्रा के कमरे में रह रहे हैं। समायरा ने उसे थप्पड़ मारा। फिरकी कहते हैं कि तुम मुझे थप्पड़ मार सकते हो लेकिन यह सच है। रोली ने मुझे बताया और उसका सामान भी वहीं है। समायरा कहती है मेरे साथ आओ।

समायरा कमरे में आती है और कहती है कि कुलदीप का सारा सामान उठाओ और पैक करो। रोली का कहना है कि समायरा चाची मुझे गले लगाओ। वह कहती है कि उसकी सारी चीजें पैक करो और मैं राजकुमारी रोली को खुद चुनूंगी। वह रोली को चुनती है। समायरा कहती है कि कुछ मत छोड़ो। समायरा कहती है कि उसका रुमाल भी उसका है। उसका लैपटॉप भी ले आओ। ऋषि वहाँ आ जाता है। वह कहता है कि तुम क्या कर रहे हो? समायरा कहती है कि कुलदीप के पास जो कुछ है उसे पाने के लिए। भले ही वह खाली हो। ऋषि कहते हैं कि तुम क्या कर रहे हो? ऐ के कपड़े फर्श पर क्यों फेंक रहे हो? अगर आई की चीजों को कुछ हो गया तो मैं तुम्हारा उपहार तोड़ दूंगा। तुम लोग क्या कर रहे हो? समायरा अपने कपड़े देती है। ऋषि कहते हैं रोली तुम कहाँ जा रहे हो? समायरा रोली और फिरकी के साथ चली जाती है। ऋषि चौंक गए।

ऋषि रोते हुए शुभ्रा के पास आता है। वह उसे बताता है कि समायरा कमरे में आई और सारा सामान ले गई। उसने तुम्हारा सामान फर्श पर फेंक दिया और पापा की चीजें ले लीं। वह रोली को भी ले गई। शुभ्रा कहती है कि अपने कमरे में जाओ, मैं इसे संभाल लूंगा।

दृश्य 4
समायरा अपने कमरे में रोली के साथ खेल रही है। शुभ्रा वहाँ आती है। वह संगीत बंद कर देती है। शुभ्रा रोली को चुनती है। समायरा कहती है तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई .. वह मेरे साथ रहना चाहती है। आप जबरदस्ती नहीं कर सकते। शुभ्रा ने हाथ हिलाते हुए कहा कि जब यह हाथ कुलदीप को मिला तो मैंने कुछ नहीं कहा लेकिन अगर यह मेरे बच्चों को मिल गया तो मैं इसे तोड़ दूंगी। तुम्हारा रिश्ता कुलदीप से है, वहीं रहो। मेरे बच्चों को छूने की हिम्मत मत करना। रोली का कहना है कि मैं नहीं जाना चाहता, माँ। कुलदीप अंदर आता है। समायरा कहती है कि वह पागल हो गई है। रोली मेरे साथ रहना चाहती है लेकिन वह जबरदस्ती उसे ले जा रही है। रोली कहती है मामा मैं नहीं जाना चाहता। समायरा कहती है तुम चुप क्यों हो? उसे रोकें। कुलदीप कहते हैं कि मैं तुम्हें नहीं रोक सकता। वह रोली की मां हैं और उनकी जगह कोई नहीं ले सकता। शुभ्रा से मेरे बच्चों की मां होने का अधिकार लेने की गलती करने की कोशिश मत करो। सिर्फ वही जानती है कि मेरे बच्चों के लिए क्या सही है और क्या गलत। कुलदीप कहते हैं यहां आओ रोली। रोली कहती है लेकिन मैं जाना नहीं चाहता। कुलदीप कहते हैं कि आपको करना होगा। वह रोली को खुद शुभ्रा के कमरे में ले जाता है। समायरा हैरान और गुस्से में है।

समायरा गुस्से में चीजों को तोड़ देती है। फिरकी का कहना है कि हम यहां ऐसा नहीं कर सकते, वे हमें बाहर कर देंगे। कृपया शांत हो जाएं। अपने गुस्से को तकिए पर उतारें। शुभ्रा के करीब हो रहे हैं कुलदीप, मुझे नहीं लगता कि वह आपसे दोबारा शादी करेगा। वह शुभ्रा का पक्ष ले रहे हैं। तुम भी निर्दोष हो। यह सजा का पात्र है। समायरा कहती है कि बुरी आदतें आपको डुबो देती हैं। अगर वह मुझसे दूर चला गया तो कुलदीप अपना सब कुछ खो देगा। हमें देखना होगा कि शुभ्रा, शुभ्रा के साथ खेल रही हैं या कुलदीप मेरे साथ खेल रही हैं।

दृश्य 5
रोली परेशान है। शुभ्रा उसे खुश करने की कोशिश करती है। कुलदीप कहते हैं चलो खेल खेलते हैं। वह कहता है कि शुभ्रा लैपटॉप ले आओ। रोली कहते हैं नहीं। कुलदीप कहते हैं कि मैं तब गाऊंगा। मुझे लोरी गाने दो। वह कहती है कि तुम्हारी लोरी मेरी नींद उड़ा देगी। कुलदीप कहते हैं फिर किसकी लोरी आपको सुलाएगी? शुभ्रा लोरी गाती है। कुलदीप ने रोली को चुना। रोली सो जाती है। वह उसे शुभ्रा के बिस्तर पर सुला देता है। कुलदीप रोली और पत्तियों चूम लेती है। वह शुभ्रा के सामने आता है।

एपिसोड समाप्त होता है।

प्रीकैप-समैरा हर्ष से कहती है कि कुलदीप के पूर्व परिवार में आपका स्वागत है। अगर मैं यह पाप करता हूं और आप इसे करते हैं, तो मैं आगे बढ़ रहा हूं? कम से कम तलाक के कागज पर दस्तखत कर दो। हर्ष कहते हैं कि मैं किसी बाहरी व्यक्ति की वजह से अपने परिवार का नाश्ता खराब नहीं करना चाहता। नारायण मधुरा से कहते हैं हर्ष ने समायरा को चुप कराने के लिए कहा था लेकिन अगर यह सच हो जाए तो क्या होगा? कुलदीप सुनता है।

अद्यतन क्रेडिट: अतिबा

Source link