Kaira Destined To be Together Forever Episode 15

Kaira Destined To be Together Forever Episode 15

सभी को नमस्कार..मुझे पता है कि मुझे आपसे इस ff के साथ मिले हुए बहुत समय हो गया है .. सॉरी यार..परीक्षाएं नजदीक हैं..और इसके साथ सभी ffs को मैनेज करना बहुत मुश्किल है। लेकिन अब व्यापार पर चलते हैं

पुनर्कथन: अक्षरा जिंदा है। कातिल नायरा के बारे में जानता है। जयपुर में सिंघानिया और गोयनका।

अस्पताल

अक्षरा की सर्जरी की गई

नर्स: सर..सर्जरी कुछ घंटे लंबी होगी इसलिए कृपया यहां भीड़ न लगाएं

नक्श : कहीं नहीं जाऊँगा, पापा के साथ रहूँगा

कार्तिक: नायरा तुम हवेली जाओ और आराम करो। मैं यहाँ पापा और नक्श के साथ रहूँगा। कीर्ति जाओ नायरा को ले जाओ। नानी, दादी, माँ चाची, पापा, चाचू और लव कुश तुम भी जाओ।

Naira: Par Kartik…

कार्तिक: नायरा तुम प्रेग्नेंट हो..आप इस तरह थक नहीं सकते। चलो ना…

नायरा: वहाँ जाने और तनावग्रस्त होने से कम से कम यहाँ तो रहो। तुम जाओ

Kartik: Naira please meri baat suno….please

कीर्ति : कार्तिक… ये दोनों भाई-बहन किसी भी कीमत पर हमारी नहीं सुनेंगे।

कार्तिक: तो कम से कम दूसरे तो जाते हैं। चाचू कृपया उन्हें ले लो।

स्वर्णा राजश्री को मना लेती है और उसे अपने साथ ले जाती है। नक्श देवयानी और भाभीमा के साथ कॉल पर है। खबर सुनकर वे खुश हो जाते हैं। इस बीच नैतिक अक्षरा की चिंता में एक कोने में बैठा है। नायरा उसके पास जाती है

नायरा: पापा….

नैतिक को अचानक सांस फूलने लगती है और नायरा उसे पकड़ लेती है

Naira: Kartik…Kartik…papa…papa

कार्तिक उनके पास दौड़ता है

कार्तिक : पापा ? ..क्या हुआ? नर्स….नर्स इमरजेंसी

नैतिक को इलाज के लिए ले जाया गया है। जबकि नर्स चिंतित कार्तिक और नायरा के पास आती है

नर्स: सर..अक्षरा जी का परिवार?

कार्तिक : हाँ बताओ…..

नर्स: सर..सर्जरी में कुछ जटिलताएं हैं, उसे बहुत खून बह रहा है। खून पास के ब्लड बैंक में है। बात यह है कि परिवहन आज एक मुद्दा है। तो क्या आप इसे पाने के लिए किसी की व्यवस्था कर सकते हैं

कार्तिक : एक बार…

वह नायर की ओर मुड़ता है

कार्तिक: नायरा तुम पापा और नक्श के साथ यहीं रहो, बीमार जाओ और खून ले आओ और आओ

नायरा: बीमार भी आता है कार्तिक

नक्श वहाँ आता है

नक्श: क्या हुआ?

कार्तिक उससे कहता है

Naksh: Ill go Kartik..

कार्तिक: नहीं..तुम यहाँ हो..पापा को तुम्हारी ज़रूरत है, चलकर जल्दी आ जाओ।

नायरा: कार्तिक प्लीज मैं भी आ जाऊं

कार्तिक: तुम ठीक से नहीं सुनोगे…ठीक है आओ

वे दोनों चले जाते हैं। नक्श नैतिक और अक्षरा के लिए टेंशन में है और ओटी कॉरिडोर से आईसीयू कॉरिडोर तक दौड़ रहा है। दृश्य जम जाता है

इम्पीरियल कॉलेज

पुलिस कॉलेज आती है। वेदिका उन्हें देखकर दंग रह जाती है।

पुलिस : वैसे कार्तिक सर कहाँ हैं ?

HOD: कार्तिक सर इमरजेंसी लीव पर हैं सर। कुछ परिवार के मुद्दे

पुलिस : ठीक है। क्या हम अभी उनकी तस्वीरें प्राप्त कर सकते हैं ताकि श्रीमती गोयनाक आसानी से उनका पता लगा सकें?

विभागाध्यक्ष: मैं आपको एक डेटाबेस एक्सेस देता हूं, वहां से आप चित्रों तक पहुंच सकते हैं। वेदिका को पेनड्राइव मिलता है

वेदिका निकल जाती है लेकिन उसके चेहरे पर उदासी छा जाती है। वह सोचती है कि श्रीमती गोयनका कार्तिक की माँ हैं।

पुलिस: तो अब हम पहचान के लिए श्रीमती गोयनका से संपर्क कर सकते हैं?

HOD: सर..वो..मैडम की मॉम सीरियस हैं इसलिए सर छुट्टी पर हैं. क्या हमारे पास बाद में नहीं हो सकता? वो..उसे..मृत माना जाता था लेकिन अब वह वापस आ गई है इसलिए

पुलिस: मैं उसकी स्थिति को समझ सकता हूं, कोई बात नहीं, पहले हम संदिग्ध व्यक्ति को बाहर कर देंगे, ताकि यह आसान हो जाए

वेदिका पेनड्राइव लेकर अंदर चली जाती है। अधिकारी को देते ही उसका हाथ कांप जाता है

HOD: कुछ गलत है वेदिका?

वेदिका: नहीं..नहीं..सिरो

ऐसा सिर्फ उनकी बातें कहती हैं। उसकी आँखें बहुत सारी भावनाएँ छिपाती हैं। दृश्य जम जाता है

जयपुर

कार्तिक और नायरा कार में अस्पताल पहुंचते हैं। दोनों ब्लड बैंक रिसेप्शन के लिए दौड़ पड़े

कार्तिक: इमरजेंसी..हमें ग्रुप ओ नेगेटिव एक यूनिट का ब्लड जल्द चाहिए…अस्पताल ने आपको पहले ही बता दिया था

रिसेप्शनिस्ट: सर..यह स्टॉक में नहीं है। अभी-अभी किसी और अस्पताल को मिला है।

नायरा फूट-फूट कर रोती है। कार्तिक ने उसे गले लगाया

कार्तिक: नायरा…नायरा..चिंता मत करो हम इसे पा लेंगे

कार्तिक: अब हम कहाँ जाएँ?

रिसेप्शनिस्ट: नज़दीकी कपूर हॉस्पिटल। उनका ब्लड बैंक भी है और उपलब्धता भी है।

कार्तिक और नायरा कपूर अस्पताल जाने के लिए अपनी कार में वापस जाते हैं।

कपूर अस्पताल

कार्तिक रिसेप्शन के अंदर दौड़ता है और उस पर दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है

कार्तिक : क्या एक यूनिट ओ नेगेटिव ब्लड उपलब्ध है।

रिसेप्शनिस्ट: सॉरी सर..ऐसा नहीं है

कार्तिक डर जाता है और रोने लगता है

कार्तिक: कृष्णजी क्यों? क्यों?? आप हम सभी को ऐसा दर्द क्यों दे रहे हैं?

अचानक कार्तिक को अपने कंधे पर हाथ लगता है और एक आदमी को देखने के लिए मुड़ता है

Kartik: Aap?

लड़का: डॉ. विशाल कपूर। सुना है आपको O नेगेटिव ब्लड की जरूरत है

कार्तिक: हां सर..लेकिन…

विशाल: मैं ओ नेगेटिव हूं और मैं डोनेट कर सकता हूं। मैं तुम्हारे साथ आउंगा

कार्तिक बहुत खुश हो जाता है और उसे गले लगा लेता है। कार में बेसब्री से इंतजार कर रही नायरा निकल जाती है और उनके पास आती है।

नायरा: कार्तिक..क्या हुआ?

कार्तिक: नायरा..सर..सर..माँ को रक्तदान करने जा रही है…जाने दो…

नायरा उसे धन्यवाद देने वाली है

विशाल: अरे..अभी नहीं..प्रक्रिया ठीक से काम करने के बाद आप मुझे धन्यवाद दे सकते हैं।

वे वहां से चले जाते हैं। दृश्य जम जाता है

अरे दोस्तों आपको विशाल के रूप में कौन सा अभिनेता चाहिए? क्या आप उसके लिए कोई जोड़ी चाहते हैं और क्या आप चाहते हैं कि उसकी कहानी आगे बढ़े? कमेंट में जरूर बताएं। अगले एपिसोड तक अलविदा।

Precap: सफल सर्जरी… अक्षरा के पहले शब्द क्या हैं? नायरा हत्यारे की पहचान करती है।

Source link