समर्थन मूल्य की मांग को लेकर जारी रहेगा आंदोलन, मोदी सरकार की चिंता जताते हुए किसान बोले – News18 Bangla

समर्थन मूल्य की मांग को लेकर जारी रहेगा आंदोलन, मोदी सरकार की चिंता जताते हुए किसान बोले – News18 Bangla

#दिल्ली: प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीन विवादास्पद कृषि कानूनों (कृषि कानून निरस्त) को निरस्त करने की घोषणा के बावजूद, किसान आंदोलन से दूर नहीं हो रहे हैं। यह बात संयुक्त किसान मोर्चा ने उसी दिन कोर कमेटी की बैठक के बाद कही। बैठक में निर्णय लिया गया कि 29 नवंबर को पूर्व निर्धारित ट्रैक्टर जुलूस व लखनऊ महापंचायत में किसानों का धरना प्रदर्शन किया जाएगा.

बैठक के बाद किसान नेताओं ने कहा, ‘लखनऊ में जुलूस पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होगा. आंदोलन की वर्षगांठ भी मनाई जाएगी संयुक्त किसान मोर्चा की मुख्य बैठक कल होगी 22 नवंबर को लखनऊ महापंचायत, 26 नवंबर को गाजीपुर-सिंघू सीमा पर और 29 नवंबर को ट्रैक्टर जुलूस निकाला जाएगा. प्रधानमंत्री ने कल एकतरफा बात की लेकिन आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक हम संतुष्ट नहीं हो जाते।”

अधिक पढ़ें: मोदी को खुला खत लिखकर वरुण ने बढ़ाई ‘सात सौ जानें गईं’ बीजेपी की बेचैनी

संयुक्त किसान मोर्चा ने इससे पहले कृषि विरोधी कानून आंदोलन की वर्षगांठ के अवसर पर अपने कार्यक्रम की घोषणा की थी। उन्होंने कहा कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान प्रतिदिन 500 किसान ट्रैक्टर लेकर शांतिपूर्वक संसद की ओर चलेंगे.

किसान नेता गुरनाम सिंह चारुनी ने कहा कि वे रविवार को फिर से बैठक कर न्यूनतम समर्थन मूल्य, आंदोलन कर रहे किसानों के खिलाफ मुकदमे वापस लेने और आंदोलन में मारे गए लोगों के परिवारों को मुआवजे की मांग करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा ने दावा किया कि उनका आंदोलन केवल विवादास्पद कृषि कानून को निरस्त करने के खिलाफ नहीं था साथ ही वे सभी प्रकार के कृषि उत्पादन के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी चाहते हैं

भाजपा सांसद वरुण गांधी पहले ही किसानों की न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग का समर्थन कर चुके हैं। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में वरुण ने मांग की कि अगर यह मांग पूरी नहीं हुई तो किसानों का आंदोलन नहीं रुकेगा

.

Source