लद्दाख के बाद अब उत्तराखंड में भी बढ़ी LAC के पास चीन की हरकत; भारत भी तैयार राष्ट्रीय ,

लद्दाख के बाद अब उत्तराखंड में भी बढ़ी LAC के पास चीन की हरकत;  भारत भी तैयार

भारत चीन गतिरोध : चीन की बुराइयां थमने का नाम नहीं ले रही हैं. हाल ही में उत्तराखंड सीमा पर चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की एक टुकड़ी सक्रिय नजर आई थी।

नई दिल्ली, २१ जुलाई : भारत-चीन गतिरोध इसी पृष्ठभूमि में चीनी सेना ने अब उत्तराखंड राज्य के बाराहोटी इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अपनी कार्रवाई तेज कर दी है। हाल ही में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की एक टुकड़ी को इलाके में सक्रिय देखा गया था। सूत्र ने एएनआई को बताया, “हाल ही में उत्तराखंड राज्य के बाराहोटी इलाके में एक सर्वेक्षण के दौरान 35 चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों की एक पलटन देखी गई।”

इस क्षेत्र में कुछ अंतराल पर चीनी सेना की आवाजाही होती रही। उन्होंने यह भी कहा कि उनके द्वारा इस क्षेत्र का सर्वेक्षण किया जा रहा है।

सूत्रों ने बताया कि भारत ने भी इलाके में जरूरी इंतजाम कर लिए हैं। चीन की सुरक्षा व्यवस्था को देखकर ऐसा लगता है कि वे इस क्षेत्र में कुछ करने का इरादा रखते हैं; हालांकि, पूरे मध्य क्षेत्र में भारत की तैयारी बहुत अच्छी और अधिक है, सूत्रों ने कहा। सूत्रों ने कहा कि चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और केंद्रीय सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वाई डिमारी ने भी हाल ही में सीमा क्षेत्र का दौरा किया है और वहां की स्थिति के साथ-साथ तैयारियों की समीक्षा की है।

चीन में साल भर चार दिन बारिश, एक घंटे में ओले गिरे, देखें वीडियो

बाराहोटी के पास एक हवाई अड्डे पर चीनी सैनिकों की आवाजाही तेज हो गई है, जहां बड़ी संख्या में ड्रोन तैनात किए गए हैं।

भारत ने मध्य क्षेत्र में अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया है, और कई जगहों पर पीछे के सैनिकों को आगे बढ़ाया है। भारतीय वायुसेना ने कुछ हवाई अड्डों को भी सक्रिय कर दिया है। इसमें चाइनालीसाउंड एडवांस लैंडिंग ग्राउंड भी शामिल है। एएन-32 विमान वहां लगातार उतर रहे हैं।

एलएसी को लेकर भारत की ‘हां’ की कड़ी चेतावनी के बाद चीन की सबुरी भूमिका

सूत्रों ने कहा कि चिनूक हेवी-लिफ्ट हेलीकॉप्टर भी क्षेत्र में काम कर रहे हैं, जिनका इस्तेमाल जरूरत पड़ने पर क्षेत्र में या बाहर लाने के लिए किया जा सकता है।

प्रथम प्रकाशित:जुलाई २१, २०२१ ६:०१ अपराह्न IS

.

Source