मायशा अय्यर के माता-पिता की मौत की खबर सुनते ही शमिता रोने लगी; प्रतीक देते हैं धैर्य – News18 Lokmat

मायशा अय्यर के माता-पिता की मौत की खबर सुनते ही शमिता रोने लगी;  प्रतीक देते हैं धैर्य – News18 Lokmat
मुंबई, 14ऑक्टोबर- ‘बिग बॉस १५’(बिग बॉस 15) प्रतियोगियों में विभिन्न कार्य दिए जाते हैं। इस बीच ‘जंगल में खुंखर दंगल’ के टास्क के दौरान शमिता(Shamita Shetty) मायशा अय्यर की(मीशा अय्यर) सैंडल खराब करना होगा। इस टास्क के बाद शमिता को खुद पर पछतावा होता है और वह मायशा से अपने व्यवहार के लिए माफी मांगती है। इस पर मायशा उन्हें ‘प्रतीक’ कहती हैं (Pratik Sahejpal) मुझे पता है कि मेरे पास यह सामग्री भेजने के लिए बाहर कोई नहीं है।’ प्रतीक भी मायशा से माफी मांगता है और उसे गले लगाता है। हाल ही में बिग बॉस के घर में ‘जंगल में खुंखर दंगल’ नाम का एक अनोखा टास्क देखने को मिला। इस बार बिग बॉस के घर में जंगल और बाकी कंटेस्टेंट्स के बीच जोरदार भिड़ंत देखने को मिली. प्रत्येक प्रतियोगी ने अपने कार्य के लिए एक सौ प्रतिशत भुगतान किया है। इसी बीच शमिता शेट्टी मायशा अय्यर की सैंडल खराब करना चाहती थीं। और भले ही शमिता ने ऐसा किया, लेकिन बाद में उन्हें बुरा लगा। इस बार शमिता ने उससे बात करने की कोशिश की। “प्रतीक जानता है कि मेरे लिए इन सभी चीजों को घर भेजने वाला कोई नहीं है,” मायशा ने कहा। उसके बाद जब शमिता किचन में होती हैं तो प्रतीक से पूछती हैं कि मायशा ने ऐसा क्यों कहा? इसका जवाब देते हुए प्रतीक कहते हैं, ‘मायशा के माता-पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे’। यह सुनकर शमिता इमोशनल हो जाती हैं और रोने लगती हैं। इस बार प्रतीक उसे धैर्य देता है। (इस पढ़ें:बिग बॉस 15 : किसिंग वीडियो वायरल होते ही सुर्खियों में आ गईं मायशा अय्यर… ) तब शमिता प्रतीक को मायशा को बुलाने के लिए कहती है, प्रतीक मेशा को बुलाता है। इस पर मायशा कहती है कि वह आटा लेने की प्रक्रिया में है। इसके बाद शमिता उससे माफी मांगती है। उसके पास जाता है और उससे माफी मांगता है। और उसे गले लगा लेता है। फिर वह अपनी सैंडल उतारती है और मायशा से कहती है कि वह जो पसंद करे उसे चुने। मायशा ने मना कर दिया। लेकिन शमिता उससे कहती है कि तुम्हारे पास कोई विकल्प नहीं है। आपको इनमें से कोई भी सैंडल चुनना है।
(इस पढ़ें:बिग बॉस 15: बिग बॉस के घर में मायशा अय्यर-ईशान सहगल किस… ) इस पर मायशा उससे कहती है कि मैं घर के किसी भी सदस्य से कुछ नहीं ले सकती क्योंकि मैं जंगल में रहने वाली हूं। हमें ऐसा करने की इजाजत नहीं है। इसका जवाब देते हुए शमिता उससे कहती है कि सैंडल चुनकर बॉक्स में डाल दो। जब हो सके इसे अपने साथ ले जाएं। इस पर मायशा उससे कहती है कि मेरी सैंडल इतनी महंगी नहीं थी। इस पर शमिता उससे कहती है कि मैं इसे इस डिब्बे में रख रही हूं। आप जब चाहें इसे ले लें।

.

Source