उच्च रक्तचाप का रामबाण इलाज है टमाटर के रस का गिलास, जानिए इसके फायदे kb – News18 गुजराती

उच्च रक्तचाप का रामबाण इलाज है टमाटर के रस का गिलास, जानिए इसके फायदे kb – News18 गुजराती
नई दिल्ली: हाई ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर भी माना जाता है। अक्सर लोगों को इसके बारे में जानकारी तब मिलती है जब यह शुरुआती चेतावनी फीचर दिए जाने से पहले अनियंत्रित और खतरनाक स्तर पर पहुंच जाती है। इस तरह की स्थिति से बचने के लिए सही समय पर डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं और इसे मैनेज करने के लिए घरेलू नुस्खों की मदद लेना चाहते हैं तो रोजाना एक गिलास टमाटर का जूस पिएं। एक शोध के अनुसार टमाटर का रस रक्तचाप को कम करने के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने और हृदय रोग को कम करने में मदद कर सकता है।

ऐसे बनाएं टमाटर का जूस

इस जूस को बनाने के लिए आप 3 से 4 टमाटर को मिक्सर में पीस लें और थोड़ा पानी मिलाकर छान लें। इस जूस को बिना नमक के पीना ज्यादा फायदेमंद होता है। कुछ लोग बाजार में मिलने वाले पैकेट जूस का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसके प्रिजर्वेटिव की वजह से यह सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए घर पर जूस बनाकर उसका सेवन करें।

टमाटर के रस में होते हैं बायोएक्टिव तत्व

टमाटर के रस में कैरोटीनॉयड, विटामिन ए, कैल्शियम और एमिनोब्यूट्रिक एसिड जैसे बायोएक्टिव तत्व होते हैं जो लगभग हर लाल फल में पाए जाते हैं। जो हृदय रोग को ठीक करने में अहम भूमिका निभाता है। यह लाइकोपीन में भी समृद्ध है जो एक एंटीऑक्सीडेंट तत्व है।

यह भी पढ़ें: बेली फैट: इस फल को खाने से पेट की चर्बी गायब हो जाएगी, साथ ही कई फायदे भी होंगे

रोजाना टमाटर का जूस पीने के और भी फायदे हैं। टमाटर का रस आंखों और त्वचा के लिए भी बहुत अच्छा होता है। इसमें मौजूद विभिन्न प्रकार के विटामिन सूजन को कम करते हैं और आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। टमाटर के रस में विटामिन सी, विटामिन बी और पोटेशियम जैसे कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं जो स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक हैं। रोजाना 3 से 4 टमाटर को मिक्सी में पीस लें और उसमें थोड़ा सा पानी मिलाकर छानकर जूस बना लें। इस जूस को बिना नमक के पीना ज्यादा फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य लाभ: एक चुटकी हींग रक्तचाप से लेकर पाचन तक की कई समस्याओं से छुटकारा दिलाता है।

टमाटर के रस में कैरोटीनॉयड, विटामिन ए, कैल्शियम और एमिनोब्यूट्रिक एसिड जैसे बायोएक्टिव तत्व होते हैं। लगभग हर लाल फल में कैरोटीनॉयड, विटामिन ए, कैल्शियम और एमिनोब्यूट्रिक एसिड होता है। हृदय रोग के उपचार में कैरोटेनॉयड्स, विटामिन ए, कैल्शियम और एमिनोब्यूट्रिक एसिड प्रमुख भूमिका निभाते हैं। लाल फल लाइकोपीन से भी भरपूर होते हैं जो एक एंटीऑक्सीडेंट तत्व है।

.

Source